For english version click here

पद्धति

 

अध्ययन की पद्धतिः

 

अध्ययन निम्नलिखित पर आधारित होता हैः-

 

 

प्रष्नावली

     प्रश्नावली को यूनिट में भेजा जाता है तथा प्रशुल्क आयोग के तीन प्रभाग आपस में परामर्श करके अध्ययन विशिष्ट प्रश्नावली तैयार करते हैं । प्रश्नावली के माध्यम से यूनिटों से एकत्रित समेकित आकंडों को इन-हाउस संकलित किया जाता है । 

 

v दौरों के माध्यम से क्षेत्र/स्थानीय जानकारी एकत्रित करना

 

प्रश्नावली से प्राप्त जानकारी की जांच के पश्चात किसी अतिरिक्त आंकड़ों/आंकड़ों के अन्तर/स्पष्टीकरण संबंधी जानकारी की आवश्यकता होने पर इसे अध्ययन दल द्वारा फील्ड दौरों के माध्यम से एकत्रित किया जाता है ।

 

v विचार-विमर्ष के माध्यम से स्टेकहोल्डर्स से जानकारी प्राप्त करना

स्पष्टीकरण प्राप्त करने के लिए कम्पनी/यूनिट के अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श/बैठक आयोजित की जाती हैं।

 

v सामग्री का सर्वेक्षण

इसके लिए संबंधित उद्योग परिसंघ/प्रशासनिक मंत्रालय/परामर्शक/शैक्षणिक संस्थानों विशेषरूप से अनुप्रयुक्त अनुसंधान /सांख्कीय संगठनों/विभिन्न तकनीकी/आर्थिक और लागत जर्नल के साथ-साथ लागत लेखा परीक्षा रिपोर्ट, विगत अध्ययन रिपोर्ट आदि से संबंधित आंकड़े एकत्रित किये जाते हैं। गौण स्रोतों से प्राप्त आंकड़ों की जांच का कार्य एक सतत प्रक्रिया है और इंटरनेट के माध्यम से आंकड़ों की व्यापक खोज की जाती है। इससे आकंड़े/जानकारी एकत्रित करने में मदद मिलती है और रिपोर्ट प्रस्तुत होने तक यह सतत प्रक्रिया है।

 

v प्रषुल्क आयोग का इन-हाउस आंकड़ा आधार